हरिद्वार कुंभ मेला 1500 हेक्टेयर में होगा...

हरिद्वार कुंभ मेला की तैयारियों का जायजा लेने शुक्रवार को धर्मनगरी पहुंचे मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने विभिन्न अखाड़ों खासकर बैरागी व संन्यासी अखाड़ों के श्रीमंहत-महामंडलेश्वरों, शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक, शासन तथा कुंभ मेला अधिकारियों के साथ कुंभ मेला क्षेत्र विस्तार का स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होंने अखाड़ों के श्रीमहंत, महामंडलेश्वर और साधु-संतों के सुझाव को स्वीकार करते हुए इसे अपनी सहमति प्रदान कर दी। सीएम ने कहा कि इस बार कुंभ मेला 1500 हेक्टेयर क्षेत्र में कराये जाने की तैयारी है, जबकि 2010 में यह मात्र 630 हेक्टेयर क्षेत्र में ही संपन्न हो गया था। दावा किया कि ऐसा पहली बार होगा, जब हरिद्वार में कुंभ मेला इतने बड़े इलाके में संपन्न कराया जाएगा।

उनके साथ अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री जूना अखाड़े के श्रीमहंत हरिगिरि, महानिर्वाणी अखाड़े के सचिव के श्रीमहंत रविंद्र पुरी, निरंजनी अखाड़े श्रीमहंत रविंदर पुरी सहित कई अन्य अखाड़ों के श्रीमहंत, साधु-संन्यासियों के सचिव शहरी विकास शैलेश बगौली, आइजी मेला संजय गुंज्याल, मेलाधिकारी दीपक रावत, जिलाधिकारी हरिद्वार सी रविशंकर, एसएसपी हरिद्वार सेंथिल अबुदई कृष्णराज एस सहित बड़ी संख्या में विभिन्न विभागों के नोडल अधिकारी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री ने बैरागी कैंप, बस्ती रामपुर पुल, हरिहरानंद घाट पुल, जलनिगम के निर्माणाधीन आइवेल का निरीक्षण किया, उन्होंने बैरागी अखाड़ों को आवंटित होने वाली भूमि का निरीक्षण कर सि पर उनसे राय भी ली।